जेफ बेजोस

जेफ बेजोस अमेज़न डॉट कॉम के संस्थापक, अध्यक्ष, मुख्य कार्यकारी अधिकारी और अमेज़न डॉट कॉम बोर्ड के अध्यक्ष हैं। बेजोस, जो कि प्रिंसटन विश्वविद्यालय से स्नातक हैं और जिन्हें टाऊ बेटा पि नामक प्रतिष्ठित सम्मान मिल चुका हैं।

▶ करिअर

प्रिंसटन विश्वविद्यालय से 1986 में स्नातक होने के बाद, बेजोस ने वाल स्ट्रीट में कंप्यूटर विज्ञान के क्षेत्र में काम किया। फिर उन्होंने फिटेल नामक कंपनी के लिए अंतरराष्ट्रीय व्यापार के लिए एक नेटवर्क बनाने का कार्य किया। इसके बाद बेजोस ने बैंकर्स ट्रस्ट के लिए, उप-राष्ट्रपति के रूप में काम किया। बाद में उन्होंने कंप्यूटर विज्ञान के क्षेत्र में डी. ई.शॉ और कम्पनी के लिए भी काम किया बेजोस ने 1994 में, न्यूयॉर्क से लेकर सिएटल तक सम्पूर्ण देश का भ्रमण करने के बाद, अमेज़न डॉट कॉम की स्थापना की। अमेज़न की व्यापार योजना वे भ्रमण के दौरान रास्ते में लिखते थे। इस कम्पनी का प्रारम्भ उन्होंने अपने गैरेज से किया। अमेज़न के साथ अपने कार्य के दम पर वे एक प्रमुख डॉट-कॉम उद्यमी और अरबपति बन गए। 2004 में, उन्होंने ब्लू ओरिजिन नामक एक मानव स्पेस फ्लाईट नामक एक स्टार्टअप कंपनी की स्थापना की। बेजोस को व्यापार प्रक्रिया विवरण में उनकी रूचि के लिए जाना जाता हैं। जैसा कि कोंडे नास्ट के पोर्टफोलियो डॉट कॉम में वर्णित किया गया है, वे ” एक ही समय पर जहां एक तरफ एक निश्चिन्त मुग़ल हैं वहीं दूसरी तरफ एक कुख्यात माइक्रोमैनेजर हैं। एक ऐसे कार्यकारी हैं जो अमेज़न से सम्बंधित प्रत्येक बात जानना चाहते हैं चाहे वह अनुबंध की बारीकियां हो या उन्हें अमेज़न की प्रेस विज्ञप्ति में किस तरह से उद्धृत किया गया हैं।

Join On Whatsapp (India’s No.1 Digital Business Trainer)

▶ McDonalds में काम

जेफ ने अपने काम की शुरुआत McDonalds में काम करने से की थी। वहां काम करने के दौरान जेफ फर्श पर गिरा हुआ केचप साफ करते थे। एक बार काम के दौरान पांच गैलन केचप का कंटेनर फट गया, जेफ बताते हैं कि यह उनके काम का पहला हफ्ता था। इसलिए नए होने के कारण इसकी सफाई उन्हीं से कराई गई। अपने साथ ऐसा व्यवहार देखकर जेफ को काफी निराशा हुई। हालांकि, यहां काम करने के अलावा जेफ के पास और कोई रास्ता नहीं था।

▶ बदल दी शॉपिंग की दुनिया

90 के दशक में एक ऐसी खोज हुई जिसका असर दुनिया पर अभी तक है। वॉल स्ट्रीट में नौकरी करने वाले जेफ बेजोस इंटरनेट क्रांति को बहुत करीब से देख रहे थे। अमेरिका मे तेजी से बढ़ रहे इंटरनेट को देखते हुए जेफ अपनी नौकरी छोड़ इंटरनेट कंपनी खोलने का फैसला करते हैं। जेफ के दिमाग में तब आइडिया आता है ऑनलाइन रिटेस का। जेफ ऑनलाइन बेचे जा सकने वाले 20 प्रॉडक्ट्स की लिस्ट बनाते हैं। किताबों की कम कीमत और कभी न खत्म होने वाली मांग को देखते हुए वह ऑनलाइन किताब बेचने के लिए वेबसाइट शुरू करते हैं।

▶ बंपर हुई शुरुआत

कंपनी को पहले दो हफ्तों में ही भविष्य नजर आ गया। महज दो हफ्तों में कंपनी की कमाई 20 हजार डॉलर हर हफ्ते होने लगी। जेफ रेवन्यू को कंपनी की ग्रोथ में लगाते रहे। दो महीनों में ही ऐमजॉन ने अमेरिका के 50 राज्यों में अपना बिजनस शुरू कर दिया। ऐमजॉन का रेवन्यू प्लान अलग ही था। कंपनी ने 4-5 साल प्रॉफिट का नहीं सोचा था। कंपनी के स्टॉकहोल्डर्स इस से परेशान थे। 21वीं सदी के आते ही जब डॉटकॉम का गुबारा फुटा तो अधिकतर ऑनलाइन कंपनियां उससे बुरी तरह प्रभावित हुई लेकिन ऐमजॉन उसके बाद और मजबूत हुआ। कंपनी को प्रॉफिट पहली बार 2001 में हुआ।


Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *