मुकेश अंबानी

मुकेश अंबानी एक भारतीय उद्योगपति और रिलायंस इंडस्ट्रीज के अध्यक्ष तथा प्रबंध निदेशक हैं। अकूत निजी संपत्ति के मालिक, मुकेश भारत के सबसे अमीर व्यक्तियों की सूचि में शामिल हैं। इसके साथ-साथ वे दुनिया के सबसे धनी व्यक्तियों में भी शामिल हैं। रिलायंस इंडस्ट्रीज भारत में निजी क्षेत्र की सबसे बड़ी तथा फोर्च्यून 500 कंपनी है। वे दुनिया की सबसे महंगी ज़ायदाद मुंबई स्थित ‘एंटिल्ला’ में रहते हैं। मुकेश रिलायंस के संस्थापक स्वर्गीय धीरुभाई अम्बानी के पुत्र और ‘रिलायंस अनिल धीरुभाई अम्बानी ग्रुप’ के अध्यक्ष अनिल अम्बानी के बड़े भाई हैं। मुकेश के रिलायंस इंडस्ट्रीज का कारोबार रिफाइनिंग, पेट्रोकेमिकल, तेल, गैस और रिटेल जैसे क्षेत्रों में फैला हुआ है। उद्योग-धन्देहे के साथ-साथ वे इंडियन प्रीमियर लीग (आई.पी.एल.) के अंतर्गत आने वाली क्रिकेट टीम मुंबई इंडियन्स ट्वेंटी-ट्वेंटी टीम के भी मालिक हैं। सन 2012 में फोर्ब्स ने उन्हें ‘दुनिया के सबसे अमीर ‘स्पोर्ट्स ओनर्स’ की सूची में स्थान दिया। अपनी कंपनी के अलावा मुकेश अम्बानी अलाल्ग-अलग समय पर विभिन समितियों के सदस्य, अध्यक्ष तथा प्रतिष्ठित कंपनियों के बोर्ड पर भी रहे हैं|

बिज़नेस कैरियर
      1980 में, इंदिरा गाँधी की भारतीय सरकार ने PFY (Polyster Filament Yarn) को खोला ताकि प्राइवेट क्षेत्र विकसित हो सके। तभी धीरुभाई अंबानी ने लाइसेंस के लिए आवेदन किया ताकि वे एक PFY प्लांट खोल सके। उस समय उस क्षेत्र में टाटा, बिरला और 43 दूसरी कंपनियों से कड़ी टक्कर के बावजूद वह लाइसेंस धीरुभाई को दिया गया। अपने इस PFY प्लांट को आगे बढ़ाने के लिए धीरुभाई को किसी की मदद की जरुरत थी इसलिए उन्होंने स्टैंडफोर्ड यूनिवर्सिटी में पढ़ रहे बेटे मुकेश अंबानी को अपनी मदद के लिये बुलाया। बाद में मुकेश ने रिलायंस पोलिस्टर में मदद करना बंद कर दिया और 1981 में फिर रिलायंस पेट्रोलियम रसायन को शुरू किया गया।और  मुकेश अंबानी ने रिलायंस इन्फोकॉम लिमिटेड (अभी रिलायंस कम्युनिकेशन लिमिटेड) की स्थापना की। जिसका मुख्य उद्देश भारत के जानकारी और कम्युनिकेशन तंत्रज्ञान क्षेत्र में ध्यान देना था|

अंबानी आगे बढ़ते गये और उन्होंने दुनिया का सबसे बड़ा पेट्रोलियम रिफायनरी, जामनगर, भारत में बनाया। जिसकी 660000 (33 मिलियन टन प्रति वर्ष) बैरल प्रति दिन भरने की क्षमता है, जो 2010 में भारत की सर्वाधिक प्रचलित पेट्रोलियम क्षेत्र और पॉवर जनरेशन के मामले में उच्च दर्जे की इंडस्ट्री थी।18 जून 2014 को मुकेश अंबानी रिलायंस की 40 वे एनुअल जनरल मीटिंग को सम्बोधित करते हुए कहा की वो आने वाले 3 सालो में 1.8 ट्रिलियन रुपये अलग-अलग व्यवसाय में इन्वेस्ट किया साथ ही भारत में 2015 में 4G सर्विसेस भी लागू की।


Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *